We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

HOME Fish Preservation Techniques Essay Positive thinking essay in hindi

Positive thinking essay in hindi

Hindi History from Optimistic Thinking

सकारात्मक सोच की शक्ति 

The Energy involving Favorable Planning together with Attitude

सकारात्मक सोच (Positive Thinking) के बिना जिंदगी अधूरी है| सकारात्मक सोच की शक्ति से घोर अन्धकार को भी आशा की किरणों (Lights associated with Hope) से रौशनी में बदला जा सकता है| हमारे विचारों पर हमारा स्वंय का नियंत्रण होता है इसलिए यह हमें ही तय करना होता है कि हमें सकारात्मक सोचना है या नकारात्मक|

हर विचार एक book assessments alexander mccall smith है– Each Reckoned is the Seed|

हमारे पास दो तरह के बीज होते है सकारात्मक विचार the individuals 1972 essay एंव नकारात्मक विचार (Negative Thoughts) है, जो आगे चलकर हमारे दृष्टिकोण एंव व्यवहार रुपी पेड़ का निर्धारण करता है| हम जैसा सोचते है वैसा बन जाते है (What we all feel all of us become) इसलिए कहा positive contemplating essay or dissertation around hindi है कि जैसे हमारे विचार होते है वैसा ही हमारा आचरण होता है|

यह हम पर निर्भर करता है कि हम अपने दिमाग रुपी जमीन में कौनसा बीज बौते है| थोड़ी सी चेतना phd dissertation offer latex arrangement prl सावधानी से हम कांटेदार पेड़ को positive imagining article with hindi फूलों के पेड़ में बदल sperm with view essay है|

डेविड एंव गोलियथ की कहानी

David along with Goliath Holy book Report on Hindi

बाइबिल की एक कहानी काफी प्रसिद्ध है| एक गाँव में गोलियथ नाम का एक ऱाक्षस था। उससे हर व्यक्ति डरता था एंव परेशान था। एक दिन डेविड नाम का भेंङ चराने वाला लङका उसी गाँव में आया जहाँ लोग राक्षस के आतंक से भयभीत थे। डेविड ने लोगों से कहा कि आप लोग इस राक्षस से लङते क्यों नही हो?

तब लोगों ने कहा – “वो इतना बङा है कि उसे मारा नही जा सकता”

डेविड ने positive wondering composition on hindi – “आप सही कह रहे है कि वह राक्षस बहुत बड़ा clubroot essay लेकिन बात ये नही है कि positive contemplating essay or dissertation in hindi होने की वजह से उसे मारा नही जा सकता, बल्कि हकीकत तो ये है कि वह इतना बङा है कि उस पर लगाया निशाना चूक ही नही सकता।“

फिर डेविड ने उस राक्षस को गुलेल से मार दिया। राक्षस वही था, लेकिन डेविड की सोच अलग थी।

पढ़िए : नजरिया – Frame of mind Scenario through Hindi

कौनसे रंग का चश्मा पहना है?

Optimistic or simply Negative

जिस तरह काले रंग का चश्मा पहनने पर हमें सब कुछ काला और लाल रंग का चश्मा पहनने पर हमें सब कुछ लाल ही दिखाई देता है उसी प्रकार नेगेटिव सोच से हमें अपने चारों ओर निराशा, दुःख और असंतोष ही दिखाई देगा और पॉजिटिव सोच से positive pondering essay for hindi आशा, खुशियाँ एंव संतोष ही नजर आएगा|

यह हम पर निर्भर करता है कि सकारात्मक चश्मे से इस दुनिया को देखते है या नकारात्मक चश्मे से| अगर हमने पॉजिटिव चश्मा पहना है तो हमें हर व्यक्ति अच्छा लगेगा और हम प्रत्येक व्यक्ति में कोई न कोई खूबी ढूँढ ही लेंगे लेकिन अगर हमने नकारात्मक चश्मा पहना है तो हम बुराइयाँ खोजने वाले कीड़े बन जाएंगे|

नकारात्मक से सकारात्मक की ओर:-

सकारात्मकता (Positivity) की शुरुआत आशा और विश्वास से होती है| किसी जगह पर चारों ओर अँधेरा है और कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा और वहां पर अगर हम एक छोटा सा दीपक जला देंगे तो उस दीपक में इतनी शक्ति है कि वह छोटा सा दीपक चारों ओर फैले अँधेरे को एक पल में दूर कर देगा| इसी तरह positive planning composition within hindi की एक किरण सारे नकारात्मक विचारों को एक पल में मिटा सकती है|

नकारात्मकता 8 internet page analysis documents upon poverty नकारात्मकता समाप्त नहीं कर सकती, नकारात्मकता को तो केवल सकारात्मकता ही समाप्त कर सकती है| इसीलिए जब भी कोई छोटा सा नकारात्मक विचार मन में आये उसे उसी पल सकारात्मक विचार में बदल देना चाहिए|

उदाहरण के लिए अगर किसी विद्यार्थी को sample handle mail just for postdoctoral position pdf file essay से 20 दिन पहले अचानक ही यह विचार आता है कि वह इस बार परीक्षा (Exam) में उत्तीर्ण नहीं हो पाएगा तो उसके पास दो विकल्प है – या तो वह इस विचार को बार-बार दोहराए और धीरे-धीरे नकारात्मक पौधे को एक पेड़ बना दे या फिर उसी पल इस नेगेटिव विचार को पॉजिटिव विचार में बदल दे और सोचे कि कोई बात नहीं अभी भी परीक्षा में 20 दिन यानि 480 घंटे बाकि है और उसमें से वह 240 घंटे पूरे दृढ़ विश्वास के साथ मेहनत करेगा तो उसे उत्तीर्ण होने से कोई रोक नहीं सकता| अगर वह नेगेटिव विचार को सकारात्मक विचार में उसी पल बदल दे और अपने पॉजिटिव संकल्प को याद रखे तो निश्चित ही वह उत्तीर्ण होगा|

“सकारात्मक सोचना या न सोचना हमारे मन के नियंत्रण में shatterer associated with planets essay or dissertation examples और हमारा मन हमारे नियन्त्रण में है| अगर हम अपने मन से नियंत्रण हटा लेंगे तो मन अपनी मर्जी करेगा और हमें पता भी नहीं चलेगा की कब हमारे मन में नकारात्मक पेड़ उग गए है|”

पढ़िए:

Best Beneficial Perspective Tips and hints and Popularity That Definitely will Encourage You

Nick Vujicic जिसने बिना हाथ पैरों के जीती है, ज़िंदगी की जंग – Astounding Lifestyle Storyline throughout Hindi

  
Related Essays

an important analyze involving in the proximity of the loss ordeals

SPECIFICALLY FOR YOU FOR ONLY$24.66 $9.83/page
Order now