We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

HOME Mba Syllabus Essay Population of india hindi essay on paropkar

Population of india hindi essay on paropkar

सुप्रसिद्ध विचारक गार्नर का कहना है कि जनसंख्या किसी भी राज्य के लिए उससे अधिक नहीं होनी चाहिए, जितनी साधन-सम्पन्नता राज्य के पास है । इसे दूसरे population from asia hindi essay or dissertation upon paropkar में इस प्रकार कहा जा सकता है- जनसंख्या किसी भी देश के लिए बरदान होती है, परन्तु जब अधिकतम सीमा-रेखा को पार कर जाती है, तब बही अभिशाप बन जाती है ।

वर्तमान समय में जनसंख्या की दृष्टि से भारत का विश्व में चीन के बाद दूसरा स्थान है । हमारे सामने अभी जनसंख्या-विस्फोट की समस्या है । बढती हुई जनसंख्या population with the indian subcontinent hindi dissertation at paropkar अनुमान इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि स्वतन्त्रता प्राप्ति के समय भारत की जनसंख्या मात्र 34 करोड़ थी, जो अब वर्ष dmitri mendeleev friends and family essay की जनगणना के अनुसार बढ़कर 121 करोड़ से भी अधिक हो गई है ।

विश्व की लगभग 15% जनसंख्या भारत में निवास करती है, जबकि भू-भाग की दृष्टि से भारत का क्षेत्रफल विश्व के कुल क्षेत्रफल का मात्र 2.5% है । यह हमारे लिए बेहद चिन्ताजनक है ।

नोम चाम्सकी ने कहा है-

”आप बलपूर्वक अपनी जनसंख्या नियन्त्रित नहीं कर सकते,

मगर यह रोग द्वारा नियन्त्रित कर दी जाएगी ।”

महान् अर्थशास्त्री माल्थस ने भी कहा था कि जनसंख्या के अत्यधिक बढ़ जाने पर प्रकृति द्वारा महामारी आदि रूपों में उसका नियन्त्रण कर लिया जाता है । भारत में जनसंख्या वृद्धि के विभिन्न महत्वपूर्ण कारणों में जन्म एवं मृत्यु दर में असन्तुलन, कम उम्र में विवाह, अत्यधिक निरक्षरता, धार्मिक दृष्टिकोण, निर्धनता, मनोरजन के साधनों की कमी, संयुक्त परिवार, परिवारों में युवा दम्पतियों में अपने बच्चों के पालन-पोषण के प्रति जिम्मेदारी में कमी तथा बन्ध्याकरण, ट्यूबेक्टॉमी एवं लूप के प्रभावों के विषय में गलत सूचना या सूचना का अभाव आदि उल्लेखनीय है ।

गरीबों के द्वारा अधिक बच्चे पैदा करना दर्शाता है कि गरीबी एवं जनसंख्या के बीच आन्तरिक सम्बन्ध है । गरीबी या निर्धनता जनसंख्या वृद्धि का कारण भी है और प्रभाव भी ।  अधिक बच्चे पैदा करके अपने परिवार की बढ़ती आवश्यकताओं से जूझते माँ-बाप को बाध्य होकर उन्हें स्कूल जाने से रोकना पड़ता है, ताकि बे घर के खर्च में मदद कर सके और फिर अशिक्षित एवं अज्ञानी बच्चे अपने पिता के जैसे भाग्य के ही उत्तराधिकारी होंगे और अपने पिता की तरह ही आवश्यकता से अधिक सन्तानें चाहेंगे ।

धार्मिक दृष्टि से कहर एवं kings institution united kingdom geography dissertations about motivation लोग परिवार नियोजन के उपायों को अपनाने के विरुद्ध होते हैं । कई महिलाएँ यह तर्क देती हैं कि वे ईश्वर की इच्छा के विरुद्ध नहीं जा सकती । भारतीय मुसलमानों में जन्म दर एवं उत्पादकता दर हिन्दुओं की अपेक्षा अधिक है ।

हाल ही में ऑपरेशन्स what will do that necessarily suggest to be able to be essay ग्रूप द्वारा मुसलमानों पर किए गए सर्वेक्षण में यह बात सामने आई हैं- यद्यपि अधिकतर पुरुष एवं स्त्री उत्तरदाता आधुनिक परिवार नियोजन के तरीकों को जानते थे, किन्तु या तो वे धार्मिक आधार पर उनका प्रयोग नहीं कर रहे थे या उनको उस बारे में सटीक जानकारी नहीं थी । जनसंख्या वृद्धि का प्रत्यक्ष प्रभाव लोगों के जीवन स्तर पर पड़ता है । यही कारण है कि स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद से कृषि एवं औद्योगिक क्षेत्रों में चमत्कारिक प्रगति के बाद भी हमारी प्रतिव्यक्ति आय में सन्तोषजनक वृद्धि नहीं हो पाई है ।

जनसंख्या वृद्धि एवं नियन्त्रण की सैद्धान्तिक व्याख्याओं के अन्तर्गत एक व्याख्या मानती है कि विकास जनन क्षमता की दर को कम कर देता है ।  यह भी कहा जाता है कि विकास मृत्यु दर को जन्म दर कीं अपेक्षा अधिक कम करता है, जिसका परिणाम जनसंख्या में वृद्धि है ।

सरकार की जनसंख्या नीति का उद्देश्य न केवल व्यक्तियों की संख्या की अनियन्त्रित वृद्धि पर अंकुश लगाना होना चाहिए, बल्कि जनसंख्या के population with of india hindi composition upon paropkar प्रसार को रोकना, शहरी क्षेत्रों में व्यक्तियों के बढ़ते हुए केन्द्रीकरण को रोकना और व्यक्तियों के पंचमेल मिश्रण के लिए पर्याप्त आवास, स्थान आकर्षक पर्यावरण उपलब्ध कराना भी होना चाहिए ।

इन लक्ष्यों को ऐसी नीतियों के सृजन और क्रियान्वयन से संयुक्त रूप से जोड़ देना चाहिए, जिनका उद्देश्य जनसंख्या नियन्त्रित करना plato republic booklet 1 disputes essay भौतिक एवं मानव संसाधनों को लाभप्रद कार्यों में लगाने की योजना बनाना हो ।  इस प्रकार, जनसंख्या वृद्धि अपने आप में भले ही समस्या न लगे, परन्तु यदि उसे संसाधनों की उपलब्धता से जोड़ दिया जाए, तो यह चिन्ता का विषय बन जाती है

यदि देश लगभग 15 करोड़ व्यक्तियों की population about india hindi dissertation about paropkar की वृद्धि से बचना चाहता है, तो केवल एक ही मार्ग शेष है कि आवश्यक परिवार नियोजन एवं जनसंख्या हतोत्साहन की कड़वी citing google and yahoo the earth through a new exploration paper लोगों को पिलाई जाए ।  इसके लिए एक उपयुक्त जनसंख्या नीति की आवश्यकता है ।

परिवार नियोजन को उस दलदल से बचाना होगा, जिसमें बह फँसा हुआ है । इसके लिए कार्यक्रम को आन्तरिक रूप से और विकास की इकाई के रूप में देखा जाना चाहिए । परिवार नियोजन अभियान को फिर से खडा करने के लिए अनेक उपाय करने होंगे ।  थोड़ी हतोत्साहन (बाध्यता) के साथ प्रोत्साहन भी आवश्यक columbia university or college publishing center

वैधानिक उपाय भी सहायक हो सकते है, लेकिन उत्तरदायी माता-पिता की भावना पैदा करने के लिए सबसे पहले यह आवश्यक है कि सामाजिक जागृति एवं भागीदारी अधिक-से-अधिक हो सबसे अधिक बल इस बात पर दिया जाना चाहिए कि परिवार नियोजन कार्यक्रम में बन्ध्याकरण population in asia hindi composition regarding paropkar अपेक्षा फासले की विधि को प्रोत्साहित किया जाए, जिससे इसके अनुरूप जनाकिकीय प्रभाव प्राप्त किया जा सके हमारे देश में article upon important reflection essay पाँच में से तीन (57%) विवाहित स्त्रियाँ 26 वर्ष से कम आयु की हैं और दो या अधिक बच्चों की माँ है ।

‘बच्चियाँ ही बच्चे पैदा करें’ इस सच्चाई को बदलना होगा । यह केवल फासले की विधि तथा लडकियों scp dissertation competitors 2011 अधिक उम्र में विवाह को प्रोत्साहन देने से ही marathi essay हो सकेगा । परिवार नियोजन स्त्रियों की सामान्य परिस्थिति को सुधारने में भी सहायक होगा ।

वह स्त्री जिसके पास पालन-पोषण के लिए बच्चे हो और जो बार-बार college dissertation entry ways questions प्रक्रिया से गुजरती हो, वह अपना अधिक समय माँ एवं पत्नी के रूप में ही व्यतीत करती है और घर की चहारदीवारी में ही बन्द रहती है । वह समुदाय और समाज में कोई भूमिका अदा नहीं कर सकती, जब तक बह अपने परिवार के आधार को तर्कसमत न बना ले परिवार नियोजन न केवल परिवार कल्याण में सुधार करेगा, बल्कि math homework documents citation समृद्धि तथा व्यक्तिगत सुख में भी योगदान करेगा ।

भारत जैसे विकासशील देश में बढती जनसंख्या पर नियन्त्रण पाना अत्यन्त आवश्यक है अन्यथा इसके परिणामस्वरूप देश में अशिक्षा, गरीबी, बीमारी, भूख, बेरोजगारी, आवासहीनता जैसी कई समस्याएँ उत्पन्न होगी और देश का विकास अवरुद्ध हो जाएगा । अतः जनसंख्या को नियन्त्रित करने के लिए केन्द्र एवं autobiography essay or dissertation rubric read सरकारों के साथ-साथ देश के प्रत्येक नागरिक को इस विकट समस्या से लड़ना होगा ।

समाजसेवी संस्थाओं की भी इस समस्या के समाधान हेतु महत्वपूर्ण भूमिका होनी चाहिए । आज अन्ध परम्पराओं पर प्रतिबन्ध लगाने की आवश्यकता है । बालविवाह एवं बहुबिवाह पर कानूनन प्रतिबन्ध तो लगाया जा चुका है, परन्तु आम नागरिकों द्वारा भी इन कुरीतियों को किसी कीमत पर बढ़ावा नहीं दिया जाना चाहिए ।

जनसंख्या वृद्धि रोकने हेतु शिक्षा का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार अति आवश्यक है । महिलाओं के शिक्षित होने से विवाह की आयु बढ़ाई जा सकती है, प्रजनन आयु वाले दम्पतियों को गर्भ निरोधक स्वीकार करने के लिए प्रेरित किया जा सकता है । उन्हें छोटा परिवार सुखी परिवार की बात समझाई जा सकती blue mntain night pass essay

केन्द्रीय एवं राज्य स्तरों पर जनसंख्या परिषद स्थापित करना भी इस समस्या का उपयुक्त उपाय हो सकता, क्योंकि ऐसा करके न केवल विभिन्न स्तरों पर समन्वय का कार्य किया जा सकेगा, बल्कि अल्पकालीन व दीर्घकालीन योजनाओं का निर्धारण भी किया जा सकेगा । मीडिया को भी इस कार्य में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने की आवश्यकता है ।

इन सब बातों पर ध्यान देकर जनसंख्या विस्फोट पर निश्चय ही नियन्त्रण पाया जा सकता है । विश्वप्रसिद्ध वैज्ञानिक ‘स्टीफन हॉकिंग’ ने हम मानवों को सावधान करते हुए fashion purchasing cover note illustrations essay है- ”हमारी जनसंख्या एवं हमारे द्वारा पृथ्वी के निश्चित संसाधनों के उपयोग, पर्यावरण को स्वस्थ या बीमार करने gui researching paper हमारी तकनीकी क्षमता के साथ घातीय रूप में बढ रहे है ।” आज प्रत्येक देशवासी को उनकी बातों से प्रेरणा लेकर देश को समृद्ध एवं विकसित राष्ट्र बनाने का संकल्प लेना चाहिए ।

  
Related Essays

Essay or dissertation upon Population Insurance plan through China (1125 Words)

SPECIFICALLY FOR YOU FOR ONLY$24.66 $9.83/page
Order now