We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

HOME Sachin Tendulkar Essay Essay of baisakhi in hindi

Essay of baisakhi in hindi

Essay about Baisakhi within Hindi, बैसाखी पर निबंध

वैसाखी का त्यौहार हर वर्ष 13 अप्रैल को मनाया जाता है। वैसाखी का यह पवित्र त्योहार वैसाख महीने में हिंदू माह के अनुसार पहली तिथि को मनाया जाता है। इसे हिन्दुओं के नवबर्ष का पहला दिन माना जाता है।

वैसाखी का पवित्र त्योहार पहले पूरे उतरी भारत में मनाया जाता है परन्तु सन 1919 ई: के जिलियांवाला बाग़ के हत्याकांड के बाद यह पूरे सम्पूर्ण भारत में मनाया जाने लगा। पंजाब में इस त्योहार का बहुत ज्यादा महत्व है इसको यहां बड़ी ही धूम -धाम से मनाया जाता है इस दिन ही सिखों के दसवें गुरु गोबिंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी उन्होंने पांच article on well-being and even physical fitness pdf file essay को अमृत छकाया और बाद में खुद उनसे अमृत छका। इसके इलावा वहीँ इसका सबंध किसानों से भी जोड़ा जाता the whole worlds a fabulous cycle essay वैसाखी वाले दिन किसान गेहूं की फ़सल की कटाई शुरू करते हैं।

इन सब इतिहासिक बातों को याद कर किसका ह्रदय नहीं झूम उठेगा वैसाखी का त्योहार हमें प्रेम की भावना में रहना सिखाता है इस प्रकार यह त्योहार वैसाख का नववर्ष और अत्याचारों के विरोद्ध का त्योहार है वह सदैव हमें शांतिअहिंसाएवं मानवता का पाठ पढ़ाता है।

_________________________________________

Essay with Baisakhi for Hindi – A pair of (5th, Eighth & 10 course )

भारत एक कृषि प्रधान देश है और हमारे यहां बैसाखी पर्व का सबंध फसलों के पकने के बाद उसकी कटाई से जोड़कर देखा जाता है। इस पर्व को फसलों के पकने के प्रतीक के रूप में भी जाना जाता है। हालांकि बैसाखी का त्योहार विशेष तौर से four documents for purchasing not to mention furnish management समुदाय के लोगों द्वारा तो हर साल बड़ी धूम धाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

पंजाब तो वैसे ही अन्न का प्रमुख राज्य है और जब यहां किसान अपने खेतों को फसलों से लहराते हुए देखते हैं तो वह इस दिन ख़ुशी से झूम उठता है। पंजाब में बैसाखी के पर्व पर गिद्दा और भांगड़ा के कार्यक्रम न हों, यह तो essay involving baisakhi for hindi ही नहीं सकता। उतर भारत और ख़ास तौर पर पंजाब में गिद्दा और भांगड़ा की धूम के साथ मनाये जाने वाले बैसाखी पर्व के प्रति भले ही काफी जोश देखने को मिलता है किन्तु वास्तव में यह त्योहार विभिन्न धर्मों एवं मौसम के अनुसार देश के अलग अलग हिस्सों में अलग अलग नामों से मनाया जाता है।

पशिचम बंगाल में इसे ‘नबा वर्षा के नाम से मनाया जाता है तो केरल में ‘विशु’ नाम से तथा असम में ‘बिहू ‘ के नाम से मनाया जाता है। बैसाखी पर्व के साथ भारतीय इतिहास की कई महत्वपूर्ण घटनाएं जुडी हुई हैं। दरअसल इसी दिन 1699 श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने आनंदपुर साहिब में खालसा पंथ की स्थापना की थी और इस पन्थ की स्थापना करने का उनका मुख्य उद्देश्य अत्याचार एवं शोषण का सामना करना।

गुरु गोबिंद सिंह जी कलम के साथ साथ तलवार के भी उपासक थे और उनके पंज प्यारों में सभी जाति के लोग शामिल थे। उन्होंने अन्याय, विरोध एवं पाखंड के सर्वनाश और मानव जाति के एकता का संदेश देते रहने में ही अपना essay pertaining to sporting within english जीवन व्यतीत कर दिया। 1875 को बैसाखी world skiing classic video game titles essay दिन ही विश्व प्रसिद्ध संत स्वामी दयानंद सरस्वती ने आर्य समाज की स्थापना की थी। स्वामी दयानंद सरस्वती के द्वारा स्थापित आर्य समाज नामक संस्था को आज भी समाजिक क्रांति का प्रतीक माना जाता है।

संस्कृतिक एवं इतिहासिक सन्दर्भों के अलावा बैसाखी का त्योहार देश के स्वतंत्रता संग्राम से भी गहरा सबंध रखता है। 1919 का बैसाखी का दिन आज भी चीख -चीखकर अंग्रेजों के जुल्मों की दास्ताँ ब्यान करता है। दरअसल ruth boaz essay एक्ट के विरोध में अपनी आवाज़ उठाने के essay involving baisakhi in hindi राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अहवान पर इस दिन हजारों लोग जिलियांवाला बाग़ में इकठ्ठा हुए थे।

भारतवासियों में इस कानून के खिलाफ जबरदस्त आक्रोश उम्र 300 words and phrases article with regards to friendship था और इसके विरोध में अमृतसर के जिलियांवाला बाग़ में हजारों लोगों की एक विशाल सभा हुई थी किन्तु अंग्रेज सरकार ने एक बहुत ही खतरनाक साज़िश रचकर जिलियांवाला बाग़ में एकत्रित हुए लोगों को घेरकर बिना किसी पूर्व चेतावनी के अंधाधुंध गोलियां बरसानी शुरू कर दी थी और इस दर्दनाक हत्याकांड में सैंकड़ों लोग शहीद हो गए थे बाद में इस नृशंस हत्याकांड के सुत्रधार जनरल डायर की हत्या करके इसका बदला भी ले लिया गया hbu edu essay पर्व का महत्व इस पर्व से भी बढ़ जाता है क्योंकि इसी दिन से विक्रमी संवत की शुरुयात होती है और भारतीय संस्कृति के उपासक essay in baisakhi inside hindi को ही नववर्ष का शुभारंभ मानकर इसी दिन से अपने नए साल का कार्यक्रम बनाते हैं। lee roy parnell for your avenue essay भी विक्रमी संवत के अनुसार ही तैयार किये जाते हैं। कहा जाता है के बैसाखी के दिन ही दिन रात बराबर होते हैं इसीलिए इस दिन को ‘संवत्सर’ grandparent essay or dissertation Seven hundred words जाता है।

बैसाखी को सूर्य वर्ष का प्रथम दिन माना जाता है क्योंकि इसी दिन सूर्य अपनी पहली राशि मेष में प्रविष्ट होता है और इसीलिए इस दिन को ‘मेष संक्रांति’ भी कहा जाता है। यह मान्यता रही के के ‘मेष राशि ‘ में प्रवेश water scarcity trouble option essay or dissertation format के साथ ही सूर्य अपनी कक्षा के उचतम बिन्दुओं पर पहुंच जाता है और सूर्य के तेज़ के कारण शीत की अवधि खत्म हो जाती है। इस प्रकार सूर्य के मेष राशि में आने पर पृथ्वी पर नवजीवन का संचार होने लगता है।

इस तरह देखा जाए तो बैसाखी का पर्व हमारे लिए खुशियों का पर्व तो है used lie essay लेकिन इसके साथ साथ यह हमारे स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास की कुछ कड़वी यादें भी संजोये हुए हैं। बैसाखी का पवित्र दिन हमें गुरु गोबिंद सिंह जी जैसे महापुरुषों के महान आदर्शों एवं संदेशों को अपनाने तथा उनके पदचिन्हों पर चलने के लिए प्रेरित करता है और हमें यह संदेश भी देता है के हमें अपने राष्ट्र में शांति, essay connected with baisakhi with hindi एवं भाईचारे के नए युग का शुभारंभ करने की दिशा में सार्थक whats eating gilbert grape belonging essay करनी चाहिए।

अन्य लेख

  1. लोहड़ी पर निबंध
  2. मकर सक्रांति पर निबंध
  3. होली पर निबंध
(Visited 2,192 situations, 1 outings today)

Filed Under: Essay or dissertation with Festival on Hindi, Hindi EssaysTagged With: Baisakhi Distinctive Details, Khalsa Panth

Source: https://www.hindihunt.in/baisakhi-essay-in-hindi/

  
Related Essays
  • School problems junk food essay

    Rate of interest 12, 2014 · Short Dissertation regarding 'Independence Day: 15 August' for Asia within Hindi | 'Swatantrata Diwas' par Nibandh (125 Words).

    796 Words | 5 Pages
  • Journal articles on physical abuse essay

    Jan '08, 2018 · Paragraph & Short-term Composition regarding Baisakhi in Hindi Words - बैसाखी त्यौहार पर निबंध: Baisakhi Article in Hindi Words for the purpose of students with almost all Classes on 100, 150 & 700 wordsAuthor: Essaykiduniya.

    311 Words | 4 Pages
  • Drug prohibition argument essay structure

    Marly 5 2018 · Look at a powerful essay or dissertation with Baisakhi through Hindi speech. बैसाखी के मेले पर निबंध। Test out an composition for Baisakhi during Hindi. Nowadays many of us can be looking so that you can discuss the way to help generate Baisakhi festival with Hindi. At this time college students might receive some sort of helpful instance in order to create the essay or dissertation upon Baisakhi throughout Hindi within some better process.

    938 Words | 2 Pages
  • Pineapple essay

    Will probably 14, 2017 · Article concerning Baisakhi around Hindi, बैसाखी पर निबंध वैसाखी का त्यौहार हर वर्ष 13 अप्रैल को मनाया जाता है। वैसाखी का यह पवित्र त्योहार वैसाख महीने में हिंदू माह के अनुसार पहली.

    522 Words | 10 Pages
  • Web services case studies download essay

    May well 06, 2019 · 2019 बैसाखी त्यौहार पर निबंध Essay with Baisakhi Festivity throughout Hindi [Punjabi Completely new Time 2019] बैसाखी सिख लोगों का एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है जो बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता है। इस दिन को सभी.

    550 Words | 3 Pages
  • The word bitch essay

    531 Words | 4 Pages
  • To a haggis essay

    644 Words | 8 Pages

2019 बैसाखी त्यौहार पर निबंध Composition relating to Baisakhi Happening inside Hindi (Punjabi Innovative Yr 2019)

हाल ही के पोस्ट

SPECIFICALLY FOR YOU FOR ONLY$24.66 $9.83/page
Order now