We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

HOME `Same Sex/Civil Union` Essay Essay on shishir seasons

Essay on shishir seasons

महत्वपूर्ण लिंक

भारत की ऋतुएँ पर निबंध

(Six Rutiyen Dissertation for Hindi) 

Read Out a great Dissertation concerning 6-8 American native indians The seasons (Bhart ki five rituyen) crafted having a few uncomplicated strains during Hindi together with british so this means. Rituyen ke Prakar along with Hindi Tongue 30 days Term : essay regarding shishir seasons & Baishakh) Vasant Ritu, (Jyeshtha & Ashad) Grisham Ritu,  (Shravan & Essay concerning shishir seasons Varsha Ritu, (Ashvin & Kartik) Sharad Ritu, (Margshirsh & Paush) Hemant Ritu, (Magh & Falgun) Shishir Ritu.

विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां essay concerning shishir seasons पर छः ऋतुएं (Six Varieties from Ritu) अपनी छटा बिखेरती हैं। प्रत्येक ऋतु दो मास की होती है। 

चैत (Chaitra) और बैसाख़ (Baishakh) में बसंत ऋतु (Basant Ritu) अपनी शोभा का परिचय देती है। इस ऋतु को ऋतुराज (Rituraj) की संज्ञा दी गयी है। धरती का सौंदर्य इस प्राकृतिक आनंद के स्रोत में बढ़ जाता है। रंगों का त्यौहार होली बसंत ऋतु sugato dasgupta thesis की शोभा को दुगना कर देता है। हमारा जीवन चारों ओर के मोहक वातावरण essay with shishir seasons देखकर मुस्करा उठता है। 

ज्येष्ठ (Jyeshtha) और आषाण (Ashad) ग्रीष्म ऋतु (Grisham Ritu) के मास (Month) है। इसमें सू्र्य उत्तरायण की ओर बढ़ता है। ग्रीष्म ऋतु प्राणी मात्र के लिये कष्टकारी अवश्य है पर तप के बिना सुख-सुविधा को प्राप्त नहीं किया जा सकता। यदि गर्मी samaria within the type essay पड़े तो हमें पका हुआ अन्न भी प्राप्त न हो। 

श्रावण (Shravan) और भाद्र (Bhadra) पद वर्षा ऋतु (Varsha Ritu) के मास हैं। वर्षा नया जीवन लेकर आती है। मोर gay bars brooklyn essay पांव में नृत्य बंध जाता है। तीज (Teej) और रक्षाबंधन (Rakshabandhan) जैसे त्यौहार (Festivals) भी इस ऋतु में आते हैं। 

अश्विन (Ashvin) और कातिर्क (Kartik) के मास शरद ऋतु (Sharad Ritu) want affiliate internet marketing officer article requirements मास हैं। शरद ऋतु प्रभाव की दृश्र्टि से बसंत ऋतु का ही दूसरा रुप है। वातावरण में स्वच्छता का प्रसार दिखा़ई पड़ता है। दशहरा (Dussehra) और दीपावली (Dipawali) के त्यौहार इसी ऋतु में आते हैं। 

मार्गशीर्ष (Margshirsh) और पौष (Paush) हेमन्त ऋतु (Hemant The odyssey composition topics के मास हैं। इस ऋतु में शरीर प्राय स्वस्थ रहता है। पाचन शक्ति बढ़ जाती है। 

माघ (Magh) और फाल्गुन (Falgun) शिशिर अर्थात पतझड़ (Shishir Or Patjhar Ritu) essay in shishir seasons मास हैं। इसका आरम्भ मकर संक्राति (Makar Sankranti) से होता है। इस ऋतु में प्रकृति पर बुढ़ापा छा जाता है। वृक्षों के पत्ते झड़ने लगते हैं। चारों ओर कुहरा छाया रहता है।

भारत को भूलोक का गौरव तथा प्रकृति का पुण्य स्थल कहा गया है। इस प्रकार ये ऋतुएं जीवन रुपी फलक के भिन्न- भिन्न दृश्य हैं, जो जीवन में रोचकता, सरसता और पूर्णता लाती हैं।

  
Related Essays

Very long in addition to Little Composition upon Gardening seasons for Of india within Language

SPECIFICALLY FOR YOU FOR ONLY$24.66 $9.83/page
Order now